Skip to main content

Posts

Featured

खुद को देखा नही

दूर खड़ी उस मंज़िल तक
तारों से ले के कंदील तक
मैंने खुद को देखा है कहाँ।
दर्द के दर पर दस्तक से
खुशियों की उस खोली तक
मैंने खुद को देखा है कहाँ।
मैंने खुद से खुद को छुपाया
मैंने खुद से खुद को चुराया
मैंने खुद को अपना बनाया (2)
पाताल से ले के अंबर तक
मैंने खुद को देखा है कहाँ।
मैं कौन हूं क्या हूं क्यों हूं
मैं क्यों इतना पागल हूं (2)
मेरी धड़कन से जज़्बातों तक
मैंने खुद को पूछा है कहाँ।
मैं खुद पे हूं क्यों मरता
क्यों आवारा हूं फिरता (2)
मन की गलियों के मंज़र तक
मैंने खुद को सोचा है कहाँ।

Latest posts

कुछ था

કેમ છો

ન સમજ્યો

જીવન-વિજ્ઞાન

આવું પણ હોય છે

સવાલ ( gujarati literature )

Manali ( A travel diary )

ટ્રાફિક ( મારો અનુભવ )

समज़ ( प्रथम प्रयत्न – हिंदी साहित्य )